LAC Border – Dead Solider is on duty after his death

LAC Border - Dead Solider is on duty after his death banner

LAC बॉर्डर नाथुला सिक्किम, में एक फौजी ऐसा भी है जो मरने के बाद भी देश की सीमा की रखवाली कर रहा है| नाथुला सिक्किम का एक हिस्सा है जो LAC बॉर्डर के निकट स्थित है| वहाँ से रात को कोई भी भारत की सीमा दाखिल नहीं हो सकता| तो आइये जानते है क्या है सच, ये कहानी है बाबा हरभजन सिंह की-

कैसे हुआ शुरू

बाबा हरभजन का जन्म 30 अगस्त 1946 पंजाब, में हुआ था| जो 9 फरवरी 1966 को भारतीय सेना के पंजाब रेजिमेंट में एक सिपाही के पद पर भर्ती हुए थे| 4 अक्टूबर 1968 में सिक्किम में सेवारत थे जब उनकी मृत्यु हुई| हुआ ये था की वो नाथुला पास, पूर्वी सिक्किम, LAC बॉर्डर के पास एक चट्टान से उनका पैर फिसल गया जिससे वे नाले में गिर गए| पानी का बहाव इतना ज़्यादा था की वो वहाँ से दूर चले गए |

baba harbhajan singh
credit- flickr.com

कुछ समय तक उनकी तलाश की गयी पर जब वो नहीं मिले तो उन्हें बागोड़ा घोषित कर दिया गया| उसके बाद उन्होंने अपने दोस्त प्रीतम सिंह के सपने में आकर अपने शव के बारे में बताया| पहले तो उनके दोस्त की बात पर किसी को भरोसा नहीं हुआ, पर बाद में जब उनका शव ठीक उसी जगह मिला| तो सभी को उन पर विश्वास होने लग गया|

हरभजन सिंह की समाधी भी उसी जगह बनायीं गयी है| जहाँ पर उनकी मौत हुई थी| उनकी समाधी एक तीर्थस्थल बनी हुई है| जहाँ पर साल भर में लाखो लोग आते है| श्रद्धालुओं का ध्यान रखते हुए उनकी समाधी 1982 में 9 किलोमीटर निचे बनवा दी गयी| ऐसा माना गया की समाधी की इच्छा भी उन्होंने अपने एक दोस्त के सपने में आ कर प्रकट की थी |

उनकी समाधी अब आस्था का केंद्र बन गयी है और ऐसा माना जाता है| अगर उधर पानी की बोतल रख दो तो उसमे 21 दिन में ऐसे गुण आ जाते है जिससे की बीमारिया भी ठीक हो जाती है| बाबा की समाधी में उनके जूते, कपड़े रखे हुए है| जिसकी रखवाली सेना के जवान करते है| उन जवान का कहना है की बाबा के जूतों पर मट्टी लगी मिलती है कपड़ो पर सुकड़न और उनके बिस्तर बिखरे हुए मिलते है|

temple near LAC border
credit- commons.wikimedia.org

आज भी करते है देश की सेवा

भारत और चीन की फ्लैग मीटिंग में एक कुर्शी बाबा के लिए खली छोड़ी जाती है| बाबा रात को LAC बॉर्डर पर देश की रक्षा करते है समय-समय पर जवानो के सपने में आकर चीन के सेनिको की योजना के बारे में आगाह करते रहते है| यहाँ तक की चीनी सेनिको ने भी LAC बॉर्डर पर किसी को घोड़े पर गस्त लगते हुए महसूस किया है| बाबा ने मरने के उपरांत भी 50 साल तक देश की रक्षा की है|

अब बाबा की पदोन्नति कप्तान की हो गयी है| कप्तान को साल में दो महीने की छुट्टी 15 सितम्बर से 15 नवंबर तक दी जाती है| उनके सामन को साल भर के वेतन के साथ दो जवानो के सहारे नाथुला से न्यू जलपाईगुड़ी रेलवे स्टेशन तक लाया जाता है| फिर वहाँ से उनके पंजाब अमृतसर एक्सप्रेस से ले जाया जाता है| उस गाड़ी में टिकट बाबा के नाम से होती है| और फिर उन्हें सेना की गाड़ी से उनके गांव छोड़ कर आते है और उनका सामान उनकी माता को सौप दिया जाता है| छुट्टिया ख़तम होने के बाद वापस उसी तरह उनको नाथुला सिक्किम, LAC बॉर्डर ले जाया जाता है|

जब कप्तान छुट्टियों पर घर जाते है तो पूरा LAC बॉर्डर हाई अलर्ट पर रहता है|

कुछ लोगो ने इसे अंधविश्वास कहते है| उन्होंने इसके खिलाफ कोर्ट में केस किया था| जिसके बाद बाबा की छुट्टिया कैंसिल कर दी गयी और अब बाबा पुरे साल देश की रक्षा करते है|

Leave a Reply